अगर मार्केट खुलता भी है तो भी घर से बाहर ना जाएं क्योंकि वास्तविक स्थिति बहुत ज्यादा खराब है! 10% भी आंकड़े स्पष्ट नहीं है! 

मई और जून पूरा घर पर ही रहें और आगे 1 साल तक बहुत ज्यादा आप अपनी और परिवार की सेफ्टी करें!

अपना ध्यान खुद रखें गवर्नमेंट के पास भी इसका कोई उपाय नहीं है, हालात बहुत खराब है!

अस्पतालों में व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है जो कर रहे हैं, वह खुद बहुत डरे हुए हैं!
अस्पतालों में पहुंचने वाला सामान्य पेशेंट भी कोरोना ग्रस्त हो रहा है!

अपनी जान खुद बचाओ स्थिति जितनी बताई जा रही है उससे कई गुना ज्यादा गम्भीर हैं,
इस बात को बिल्कुल हल्के में ना लें आपका कोई करीबी चाह कर भी आपकी मदद नहीं कर पाएगा, आपकी जमा पूंजी/सारा पैसा धरा का धरा रह जाएगा कोरोना होने पर कुछ भी काम नहीं आएगा!

याद रहे, सच्चाई और दवाई दोनों बहुत कड़वी होती है, लेकिन स्वीकार करने में ही समझदारी है

इस बात से ही अंदाजा लगा लीजिए कि 135 करोड़ की आबादी है अपने देश की अगर रोजाना 1 लाख टेस्ट भी होंगे... तो आखिरी व्यक्ति का नंबर 37 साल बाद आएगा !

यह अब हमारे जीवन का एक हिस्सा है जिसका असर कई वर्षों तक देखने को मिलेगा जैसे एड्स, कैंसर, पोलियो, टीबी और अब कोरोना। इन सभी बीमारियों में कोरोना संभवतः सबसे ज्यादा भीषण और घातक है।

सादर, 
अशोक एम सुथार।

🙏🙏🙏


Even if the market opens, do not go out of the house because the actual situation is very bad! Even 10% of the figures are not clear! May and June stay at home and for the next 1 year, you will have a lot of safety for you and your family! Take care of yourself, the government also has no solution for this, the situation is very bad! There is no such thing as a system in the hospitals that are doing it, they themselves are very scared! Normal patient arriving in hospitals is also suffering from corona!

Save your life, the situation is many times more serious than what is being told, Do not take this matter lightly, even your close friend will not be able to help you, your accumulated capital / money will remain in the hands of the corona, nothing will work! Remember, both truth and medicine are bitter, but it is wise to accept Guess from the fact that there is a population of 135 crores, if there will be 1 lakh tests per day of your country ... then the number of the last person will come after 37 years!

It is now a part of our life that will have an impact for many years such as AIDS, cancer, polio, TB and now corona. Corona is possibly the most horrific and fatal of all these diseases.

Yours sincerely,
Ashok M Suthar.

🙏🙏🙏